मैरवा में पंद्रह घंटे गायब रहीं बिजली

0

प्रखंड में पंद्रह घंटे बिजली गायब रही। शनिवार की पूरी रात उपभोक्ता बिजली के लिए परेशान रहे। शनिवार की दोपहर बारह बजे से बंद बिजली की सप्लाई रविवार की सुबह छह बजे शुरू हुई। मैरवा पावर सब स्टेशन को दो ग्रिड से बिजली देने का दावा दिखावा बनकर रह गया है। सीवान ग्रिड से सीधे दी जानेवाली सप्लाई से सुता फैक्ट्री को भी एक सप्ताह से जोड़ दिया गया है। जिससे मैरवा क्षेत्र की सप्लाई कम कर दी गयी है। पावर स्टेशन को मिलने वाली बिजली में सीवान क्षेत्र को रोशन किया जा रहा है। एक माह से बिजली की लचर आपूर्ति को लेकर बिजली उपभोक्ता परेशान हैं। रविवार को दिन में भी बिजली कम रही। गर्मी शुरू होते हीं बिजली सप्लाई भी लचर हो गयी है। जर्जर जार बदलने पर भी बार-बार फाल्ट हो रहा है। एक सप्ताह से उपभोक्ताओं को रोजाना बारह घंटे भी बिजली नहीं मिल पा रही है। दो ग्रिड से बिजली देकर पंद्रह घंटे से अधिक बिजली का दावा बेमतलब साबित हो रहा है। पंद्रह घंटे तक लगातार बिजली कटौती से दो ग्रिड से बिजली सप्लाई के दावे की पोल भी खुल रही है। शनिवार को सीवान ग्रिड से दी जाने वाले सप्लाई में फाल्ट बताकर बिजली सप्लाई बंद की दी गयी। सुबह पावर सब स्टेशन के कर्मचारियों के सीवान पहुंचने पर बिजली सप्लाई शुरू की गयी। रघुनाथपुर से कम मेगावाट मिलने से बिजली सप्लाई शुरू नहीं हो पा रही है। सीवान के सुता फैक्ट्री पावर सब स्टेशन को ग्रिड से मैरवा पावर सब स्टेशन में आने वाले तार से बिजली दी जा रही है। सुता फैक्ट्री के जुड़ जाने से यहां सप्लाई कम हो गई है। मैरवा को बारह मेगावाट बिजली की जरूरत है। मांग के अनुपात में 8 से 10 मेगावाट बिजली सप्लाई दी जा रही है। कम बिजली के कारण मैरवा में सबसे ज्यादा राजस्व के बाद भी बिजली सप्लाई में अनदेखी की जा रही है।

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here