वोकेशनल कोर्सों में सीट तय होने के बाद नामांकन

0

बीआरए बिहार विश्वविद्यालय के वोकेशनल कोर्सों में सरकार ने सीट तय होने के बाद ही नामांकन हो सकेगा। सरकार ने इसके लिए कॉलेजों की आधारभूत संरचना की जांच शुरू कर दी है। बीआरएबीयू के पांचों जिलों के करीब 50 कॉलेजों की जांच के लिए सरकार ने सात सदस्यीय कमेटी बनाई है। जांच के दौरान एक महीने तक एक दर्जन कोर्सों में नामांकन नहीं हो सकेगा।

उधर, कमेटी ने जांच शुरू कर दी है। टीम औचक पहुंचकर कॉलेज के आधारभूत संरचना से लेकर तमाम बिन्दुओं को देख रही है। फिलहाल, वैशाली के कॉलेजों की जांच हुई है। कमेटी सरकारी कॉलेज, निजी व संबद्धता प्राप्त कॉलेजों की जांच करेगी। अभी मुजफ्फरपुर, पूर्वी व पश्चिम चंपारण और सीतामढ़ी के कॉलेजों की जांच होनी है। मामले में विवि अधिकारी ने बताया कि राजभवन के निर्देश पर जांच कमेटी गठित की गई है। दरअसल, राजभवन ने इन कोर्सों में छात्रों के नामांकन से पहले सरकार से सीटों की मंजूरी का आदेश दिया था। जांच कमेटी कॉलेजों के आधारभूत संरचना, संसाधन, शिक्षक-कर्मियों की संख्या के आधार पर प्रस्ताव सरकार को सौंपेगी। सरकार से मंजूरी के बाद सत्र 2019-20 में नामांकन हो सकेगा। कमेटी के अध्यक्ष आर्यभट्ट ज्ञान विवि के प्रो वीसी एसएम करीम व संयोजक उच्च शिक्षा के प्रतिनियुक्त पदाधिकारी राजेश कुमार को बनाया गया है। इसमें मौलाना मजहरूल हक अरबी एवं फारसी विवि, पटना विमेंस कॉलेज, मगध महिला कॉलेज, एएन कॉलेज व कॉलेज ऑफ कॉमर्स एंड आर्ट्स एंड साइंस के व्यावसायिक समन्वयक सदस्य बने हैं।

ये हैं कोर्स :

बीबीए, बीसीए, बायोटेक्नॉजी, इंडस्ट्रियल माइक्रोबायोलॉजी, इंडस्ट्रिलय केमिस्ट्री, फिश एंड फिशरीज, पीजीडीए, पीजीडीवाईएस, पीजीडीएचजेएमसी, बीएमसी, ह्यूमन राइट्स आदि कोर्स हैं।

पांच जिलों के करीब 50 कॉलेजों में अलग-अलग वोकेशनल कोर्स चलते हैं। इसमें 3500 से अधिक सीटें हैं। शहर में एलएस कॉलेज, आरडीएस कॉलेज, एमडीडीएम कॉलेज, नीतीश्वर कॉलेज, एमएसकेबी कॉलेज, राममनोहर लोहिया कॉलेज, आरबीबीएम कॉलेज, एलएनटी कॉलेज, एमपीएस साइंस कॉलेज के अलावा शहर के ही संबद्ध व निजी कॉलेज के अलावा अन्य जिलों के कॉलेजों में कोर्स चल रहे हैं|

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here