बिहार मे एक और महाघोटाले का खुलासा -बुडको में 13 अरब की हेराफेरी

0

बिहार शहरी आधारभूत संरचना विकास निगम (बुडको) में 13 अरब से अधिक के वित्तीय अनियमितता उजागर हुई है। सीएजी ने पांच निरीक्षण रिपोर्ट्स में बुडको के भ्रष्टाचार को उजागर करते हुए अपनी रिपोर्ट सरकार और लोक लेखा समिति को सैौंपी है।इसमें 13 अरब से अधिक के वित्तीय अनियमितता की ओर ध्यान आकृष्ट किया है।

बता दें कि बुडको की स्थापना मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की पहल पर 16 जून 2009 को की गई थी और 1956 की कम्पनी एक्ट के तहत बुडको के गठन का उद्येश्य शहरी विकास को गति देना था।लेकिन शहरी लोगों को तेजी से विकास करने के सपने दिखाकर सरकार के पैसे का पिछले आठ सालों से बंदरबाट किया जाता रहा है।

सीएजी ने इस मामले में सबसे पहले साल 2011-12 में बुडको का ऑडिट किया था और फिर वर्ष 2013-14 और 2015-16, 2016-17 और 2017-18 का ऑडिट किया। इन सभी ऑडिट रिपोर्ट में सीएजी ने बुडको के भ्रष्टाचार को पकड़ा और अपनी रिपोर्ट सरकार और लोक लेखा समिति को सौंपी।

जून 2009 से जून 2017 तक सीएजी की ऑडिट रिपोर्ट में बुडको में गड़बड़ी पकड़ी गई। एक तथ्य ये है कि 13 अरब से अधिक की इन वित्तीय गड़बड़ियों को अबतक विभाग ने खारिज भी नहीं किया है। आरटीआई कार्यकर्ता अमित कुमार मंडल और अशोक कुमार मिश्र ने मुख्य सचिव से लेकर राज्यपाल तक को इस पर संज्ञान लेने की गुहार लगाई है, लेकिन अब तक जांच नहीं की गई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here