गढ़हरा गोलीकांड के 80 घण्टा बीतने के बाद भी नहीं हुई एक भी गिरफ्तारी, उठ रहे सवाल

0

संवाददाता महंत रामजीवन दास

बरौनी(बेगूसराय)। सहायक थाना गढ़हरा के पूर्व मध्य रेलवे मार्केट
गढ़हरा में गोली कांड के 80 घण्टा बाद भी अभियुक्तों की गिरफ्तारी नहीं होने से लोगों में आक्रोश है।वहीं आमलोगों में दहशत का माहौल बना हुआ है।हालांकि अभियुक्तों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस लगातार छापेमारी कर रही है लेकिन सफलता नहीं मिल पा रही है।
नगर परिषद बीहट इलाके के गढ़हरा में 12अक्टूबर को को दिन के करीब 10 बजे रेलवे मार्केट में नगर वार्ड संख्या.9 के पार्षद सुधीर राय के भतीजा व बाल्मिकी राय का पुत्र गुलशन कुमार को गढ़हरा वार्ड संख्या.7के पार्षद धर्मेन्द्र कुमार सिंह का पुत्र सहित चार साथियों ने अंधाधुंध फायरिंग कर बाजार में कोहराम मचा दिया।गुलशन व उसके दो साथियों पर पहले लोगों ने डंडे बरसाए।बाद में गुलशन पर गोलियां बरसानी शुरू कर दी। 25वर्षीय गुलशन को गोली मार लहूलुहान कर दिया।पीड़ित का इलाज बेगूसराय स्थित अलेक्सिया हॉस्पिटल में कराया जा रहा है।मिली जानकारी के अनुसार स्थिति नाजुक बनी हुई है।घटना के बाद पूर्व मुखिया सह वार्ड पार्षद धर्मेन्द्र सिंह के घर पुलिस पहुंच उन्हें हिरासत में लेकर थाने में पूछताछ करना शुरू किया।श्री सिंह को करीब 20 घण्टे थाना में पुलिस ने रखी।13 अक्टूबर की सुबह उन्हें बांड भरवाकर रिहा किया गया।पीड़ित गुलशन ने अपने वयान में कहा कि पिता और पुत्र ही मुख्य अभियुक्त है।उसने एक दिन पूर्व वार्ड पार्षद श्री सिंह द्वारा गुलशन को धमकी देने का आरोप लगाया है।उसके अगले दिन उसपर जानलेवा हमला होना साजिश प्रमाणित कर रहा है। मिली जानकारी के अनुसार घटना के दो तीन दिन पूर्व भी सलेमपुर में दोनों पक्षों के बीच मारपीट की घटना हुई थी।इससे पूर्व इलाके में कई बार हवाई फायरिंग कर दहशत फैलाने का काम किया गया था।
घटना के दिन एएसपी मनोज तिवारी ने घटना स्थल पर पहुंच मामले का जायजा लिया।
13अक्टूबर की शाम 3बजे बेगुराराय का चर्चित अलेक्सिया हॉस्पिटल में सिंघौल थाना के अध्यक्ष अरुण कुमार सिन्हा ने घायल गुलशन से वयान लेकर गढ़हरा ओपी को भेजा है।पीड़ित गुलशन ने घटना की सारी जानकारी पुलिस को दी।इधर गढ़हरा थानाध्यक्ष प्रजेश कुमार दुबे ने बताया कि एफआईआर के अनुसार इस घटना में वार्ड पार्षद धर्मेन्द्र कुमार सिंह साजिशकर्ता प्रदर्शित हो रहे हैं।इनका पुत्र यशराज,वार्ड संख्या.10 के जयजयराम सिंह का पुत्र अमन कुमार,कील का रुशियन और शैलेश सिंह का पुत्र दीपलु कुमार,एक अज्ञात सहित छह लोग अभियुक्त हैं।इस घटना पर पूरे जिले की नजर है।लोगों में चर्चा है कि घटना से जुड़े दोनों पक्ष के युवकों का पृष्ठभूमि आपराधिक गतिविधियों में सक्रियता बढ़ रही है।अधिकतर वर्तमान युवापिढी गुमराह हैं।इधर थानाध्यक्ष श्री दुबे ने 15अक्टूबर को बताया कि छापेमारी और अनुसंधान तेज हैं।ट्रेस लिया जा रहा है।
चर्चा है कि वार्ड पार्षद की पहुंच पटना के बड़े नेताओं तक है।इस कारण उसकी गिरफ्तारी नहीं हो रही है। लोग सांठगांठ होने का आरोप पुलिस पर लगा रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here