मनीगाछी जैविक खाद्य वर्मी कंपोस्ट बनाने के नाम पर सरकारी राशि की बंदरबांट,कृषि विभाग से उच्चस्तरीय जाँच की माँग

0

बिहार हेडलाइंस के लिए पंकज कुमार की रिपोर्ट

(मनीगाछी)दरभंगा- किसानों के लिए सरकार भले ही कई योजना चला रहा हो परन्तु जमीनी हकीकत यह है कि सरकारी योजनाओं की वास्तविक लाभ किसानों को नहीं मिल रहा है।खेतों में जैविक खाद का उपयोग करने को लेकर जैविक खाद बनाने वाले किसानों के द्वारा उपयोग करने के लिए किसानों को जिज्ञासा करने के उद्देश्य से व्यापक रूप से इच्छुक किसानों से आवेदन किसान सलाहकार के माध्यम से वर्ष 2016-17,2018-19 में लिया गया।इस को लेकर कृषि वैज्ञानिकों का मानना है कि खेतों में जैविक खाद्य का उपयोग करने से खेतों में उर्वरक शक्ति वह नमी बनी रहती है।फसल में उत्पादन की बढ़ोतरी होती है।वर्ष 2016-17 राजे,फूलवन,माउवेहट,बंघात,जगदीशपुर, ब्रह्मपुरा भट्टपुरा पंचायत सहित कई अन्य पंचायतों में किसानों को जैविक खाद बनाने के नाम पर प्रखण्ड के कृषि विभाग के अधिकारी,किसान सलाहकार के गठजोड़ से फर्जी तरीके से किसानों को जैविक खाद बनाने के नाम पर सरकारी राशि का बंदरबांट कर लिए जाने एवं किसानों को इससे कोई लाभ अभी तक नहीं मिलने की मामला प्रकाश में आया है।वही वर्ष 2018-19 में किसानो को जैविक खाद बनाने के लिए विभाग के द्वारा प्रखण्ड प्रमुख के द्वारा मांगी गई सूची में 106 किसानों का नाम है।सूची में लिखा है कि पक्का वर्मी कंपोस्ट खाद्य बनाने के लिए पक्का पाँच भाग में पाटीशन कर जैविक खाद्य तैयार किए जाने का दावा किया गया है।वहीं इस सम्बन्ध में प्रखण्ड कृषि पदाधिकारी दिनेश झा ने बताया कि कोषागार से राशि विमुक्त हो गई है।इसमें मेरा कोई रोल नहीं है।नियम के अनुसार किसानों के खाते में पच्चीस हजार(25000)रूपये की राशि देने का प्रावधान है।किसान जैविक खाद्य बनाने के लिये खड़,पतबार,केचली , गोबर बना शेड में रखकर केचुआ(चाली)देने के बाद खाद्य तैयार कर उत्पादन करना है।उन्होंने धीमी स्वर से यह भी कहा कि जिला स्तर से किसी कंपनी(ऐजेंसी)से कार्य कराया गया है।सूची में नाम शामिल बंधात पंचायत के अशोक कुमार,माउबेहट पंचायत के लीला देवी,राजे पंचायत के प्रभा देवी,गीता देवी,कैलू पासवान,कटमा-बहुअरवा व फूलवन पंचायत के धनिया देवी,भट्टपुरा ब्रह्मपुरा पंचायत के सिघेश्रर यादव,रमणजी झा,कुशेस्वर यादव,पंचू यादव एव अन्य लोगो ने बताया कि आवेदन दिया गया था लेकिन ना तो खाता मेें राशि आया है ना ही कोई ठीकेदार वर्मी कंपोस्ट बनाने के आया है।वही भट्टपुरा पंचायत के किसानो ने बताया कि कृषि विभाग की ओर से चयनित ठीकेदार बनाने की बात कह कर जो गया उसे तीन साल से आने का इंतजार कर रहे है।दूसरी ओर सात किसानो ने बताया कि ठीकेदार के द्वारा तीन साल पहले आधा अधुरा बनाकर जो गया है सो आजतक पूरा करने के लिए नही आया है।वही 2017-18 वित्तीय साल में चयनित किसान ने कहा कि सूची में नाम शामिल है लेकिन कृषि विभाग की ओर से अभी तक नही बनाया गया है।जबकि सरकारी प्रावधान के अनुसार खाता मेें राशि आने की इन्तजार कर रहे है सरकार की ओर से मिलने वाली राशि लगता है रास्ते में ही हवा की तरह उड़ गया है।किसान अपने आप को पुरी तरह ठगा महसूस कर रहे है।वही प्रखण्ड प्रमुख पवन कुमार यादव,जगदीशपुर पंचायत के पूर्व मुखिया अवधेश कुमार यादव,ब्रह्मपुरा भट्टपुरा के पूर्व मुखिया श्याम मिश्र इत्यादि लोगो ने बताया कि कृषि विभाग की तरफ से उच्चस्तरीय जाँच नही किया गया तो चुनाव के बाद इस मुद्दे को लेकर आन्दोलन किया जाऐगा।

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here