पटना एम्स में सुशील कुमार के साथ इलाज में लापरवाही एवं जेएनयू के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया के साथ दुर्व्यवहार के खिलाफ एआईएसएफ का राज्यव्यापी प्रतिरोध मार्च

0

संघी सरकार के इशारे पर दो चार डॉक्टर कर रहे हैं पटना एम्स बदनाम,बदनाम होने नहीं दिया जाएगा पटना एम्स को- अमीन हमजाबेगूसराय: एक सोची-समझी साजिश के तहत संघी सरकार के इशारे पर पटना एम्स के डॉक्टरों द्वारा एआईएसएफ के राष्ट्रीय सचिव सुशील कुमार के साथ अमानवीय व्यवहार एवं इलाज में लापरवाही किया गया, साथ ही प्रसिद्ध छात्र नेता डॉक्टर कन्हैया के साथ दुर्व्यवहार कर पटना एम्स को बदनाम करने की कोशिश वर्तमान सरकार कर रही है। ताकि गरीब लोग इस बदनामी की वजह से पटना एम्स में अपना इलाज नहीं कराए। पटना एम्स को बदनाम होने नहीं दिया जाएगा। दोषी डॉक्टर पर अभिलंब कार्रवाई हो और कन्हैया पर किए गए झूठे मुकदमे को एम्स प्रशासन वापस ले, नहीं तो हमारा संगठन आर पार की लड़ाई अख्तियार करेगा, जिसकी सारी जवाबदेही राज्य सरकार एवं एम्स प्रशासन की होगी। उपर्युक्त बातें पटना एम्स में राष्ट्रीय सचिव सुशील एवं कन्हैया के साथ दुर्व्यवहार के बाद अपने राज्यव्यापी कार्यक्रम के तहत बेगूसराय में प्रतिरोध मार्च निकाल रहे छात्रों को संबोधित करते हुए संगठन के राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य अमीन हमजा ने कहा उन्होंने कहा की एम्स पूरे बिहार के गरीब गुरबों का है, किसी के बाप का नहीं है।इससे पहले छात्रों का क्रांतिकारी जत्था संगठन के जिला मंत्री किशोर कुमार के नेतृत्व में पटेल चौक स्थित जिला कार्यालय से जुलूस की शक्ल में एम्स के संघी डॉक्टर होश में आओ, एम्स को बदनाम करने नहीं देंगे, हर जोर जुल्म की टक्कर में, संघर्ष हमारा नारा है, साथी कन्हैया पर से झूठा मुकदमा वापस लेना होगा, साथी कन्हैया एवं सुशील के साथ पटना में दुर्व्यवहार क्यों राज्य सरकार जवाब दो, भेदभाव के हिसाब से पटना एम्स में इलाज करना बंद करो, सबों को समान इलाज करना होगा इत्यादि गगनभेदी नारे के साथ मार्केट का भ्रमण करते हुए जीडी कॉलेज गेट पर पहुंचा। जहां पर एक सभा का आयोजन किया गया जिसकी अध्यक्षता जिला उपाध्यक्ष राकेश कुमार एवं शंभू देवा ने संयुक्त रूप से किया। जिला सचिव किशोर कुमार ने कहा कि एक तो वहां हमारे साथियों के साथ दुर्व्यवहार किया गया, ऊपर से झूठे मुकदमे में फंसा दिया गया, जिसे हमारा संगठन कतई बर्दाश्त नहीं करेगा। उपाध्यक्ष राकेश कुमार एवं शंभू देवा ने कहा कि एक डॉक्टर एक भगवान कहलाता है जो किसी भी मरीज का बिना किसी भेदभाव को इलाज करता है। मगर पटना एम्स में जिस तरह से हमारे साथियों के साथ दुर्व्यवहार और इलाज के दौरान भेदभाव करके लापरवाही बरती गई, एक डॉक्टर के लिए यह शोभा नहीं देता है। वह डॉक्टर डॉक्टर नहीं संघी मानसिकता वाले मरीज हैं। उन डॉक्टरों पर कार्रवाई हो और मेरे साथियों पर से किये गये झूठे मुकदमे वापस लेने संबंधी मांगों को को लेकर आज हमारा संगठन राज्यव्यापी कार्यक्रम कर रहा है। प्रतिरोध मार्च के मौके पर शादाब खुर्शीद, कुंदन कुमार, कैफी आज़मी, सुमित कुमार, निंगा शाखा सचिव गुलफराज, साजन, राजा, अजीत कुमार, शाहरुख खान, अक्सर, सलमान इत्यादि मौजूद थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here